/ +91 9829211106 info@vidhyarthidarpan.com
Welcome to Vidhyarthi Darpan

राजस्थान भूगोल

राजस्थान भूगोल
October 15, 2019
10 Most Important Question Daily
October 16, 2019

राजस्थान भूगोल

Geetanjali Academy- By Jagdish Takhar

 

जनसंख्या ( Population)

  • किसी भी क्षेत्र में रहने वाले लोग तथा इनकी कुल संख्या जनसंख्या कहलाती है।
  • जनसंख्या सिद्धांत माल्थस ने दिया।
  • जनगणना का प्राचीनतम उल्लेख ऋग्वेद में मिलता है। तत्पश्चात कौटिल्य का अर्थशास्त्र तथा अबुल फजल की आईने अकबरी में जनगणना का उल्लेख मिलता है।
  • भारत की प्रथम जनगणना 1872 में लार्ड मेयो के शासनकाल में हुई।
  • भारत की प्रथम व्यवस्थित जनगणना 1881 में लार्ड रिपन के शासनकाल में हुई, इसे पहली जनगणना माना जाता है। तत्पश्चात् हर 10 वर्ष बाद जनगणना होती है।
  • भारत में जनगणना संघ सूची का विषय है (अनु. 246), जो भारतीय संविधान की अनुसूची-7 में क्र.सं. 69 पर सूचीबद्ध है।
  • जनगणना के लिए कानूनी आधार Census Act, 1948 and Census Rules, 1990है।
  • 11 जुलाई, 1987 को विश्व की जनसंख्या 5 अरब हो गई थी। 5 अरबवें शिशु का जन्म तत्कालीन युगोस्लाविया में हुआ। 11 जुलाई को विश्व जनसंख्या दिवस मनाते है।
  • विश्व के 7 अरबवें शिशु का जन्म भी भारत में ही ‘लखनऊ’ जिले के घनोट गांव में हुआ, जिसका नाम ‘नर्गिस’ रखा गया।
  • भारत विश्व में चीन के बाद दूसरा सर्वाधिक जनसंख्या वाला देश है।
  • 11 मई, 2000 को भारत की जनसंख्या 1 अरब हो गई थी। 1 अरबवें शिशु के रूप में आस्था का जन्म हुआ।
  • 2050 ई. तक भारत की जनसंख्या 159.3 करोड़ हो जाने का अनुमान है।

 

15वीं जनगणना, 2011

    • 21वीं सदी की दूसरी तथा क्रमवार 15वीं एवं स्वतंत्रता प्राप्ति के पश्चात 7वीं जनगणना।
    • जनगणना 2 चरणों में पूरी हुई। द्वितीय चरण  9 फरवरी से 29 फरवरी, 2011 तक चला।
    • प्रथम चरण: अप्रैल-सितम्बर, 2010→ House Listing
    • द्वितीय चरण: Population enumeration 9-28 फरवरी, 2011
    • प्रश्नों की संख्या: 29
    • शुभंकर (Masket): एक प्रगणक शिक्षिका

 

  • स्तर:

 

केन्द्र: रजिस्ट्रार व जनगणना आयुक्त – सी. चंद्रमौली

राज्य: जनगणना कार्य निर्देशक – शुभ्रा सिंह

क्षेत्रीय: जनगणना उप निदेशक

  • 2011 की जनगणना के आंकलन हेतु 2200 करोड़ रूपए आवंटित किए गए जो प्रति व्यक्ति भार का 18.33 करोड़ रू. हैं।
  • 2011 की जनगणना के अंतिम आँकड़ों के अनुसार भारत की जनसंख्या 1 मार्च, 2011 को 1210.6 मिलियन हो गई है, जिसमें पुरूषों की संख्या 62.31 करोड़, महिलाओं की संख्या 58.74 करोड़ तथा 6 वर्ष तक के बच्चों की संख्या 16.44 करोड़ हो गई है।
  • भारत की जनसंख्या विश्व की कुल जनसंख्या का 17.5 प्रतिशत है।
  • भारत की जनसंख्या इंडोनेशिया, ब्राजील, पाकिस्तान, बांग्लादेश व जापान की संयुक्त जनसंख्या के लगभग बराबर है।
  • 15वीं जनगणना में पहली बार सेक्स वर्करों को भिखारी की बजाए एक वर्ग दिया गया तथा किन्नरों को पुरूष व महिलाओं की श्रेणी से अलग ‘अन्य श्रेणी’ में रखा गया।
  • भारत की जनसंख्या में 2001 से 2011 के दौरान 18.2 करोड़ की वृद्धि हुई तथा वृद्धि दर 17.7ः रही।
  • जनसंख्या के इतिहास में वर्ष 1921 को महान विभाजक वर्ष के रूप में जाना जाता है क्योंकि 1921 के बाद जन्म दर में तीव्र वृद्धि व मृत्यु दर में गिरावट का सिलसिला शुरू हो गया।
  • वर्ष 2001-2011 के दशक में जनसंख्या की दशकीय वृद्धि दर 17.7 प्रतिशत रही है।

 

जनसंख्या में दशकीय वृद्धि

 

वर्ष भारत राजस्थान
1901 23-84 करोड़ 1-029 करोड़
1911 5-75% 6-70%
1921 &0-31% &6-29%
1931 11-00% 14-14%
1941 14-22% 18-01%
1951 13-34% 15-20%
1961 21-64% 26-20%
1971 24-80% 27-83%
1981 24-66% 32-97%
1991 23-86% 28-44%
2001 21-54% 28-41%
2011 17-70% 21-44%

 

जनंसख्या

भारत 2001 2011
कुल 102 करोड़ 121 करोड़
पुरूष 51.73 51.54
महिला 48.27 48.46%
स्थान (विश्व) IInd (16.97%) IInd (17.50%)

 

राजस्थान 2001 2011
कुल 5.65 करोड़ 6.86 करोड़
पुरूष 52.06 51.91
महिला 47.94 48.09%
स्थान (भारत) आंठवां

(5.49%)

आंठवां (5.67%)

 

सर्वाधिक जनसंख्या

भारत (करोड़)
2001 2011
1 उत्तर प्रदेश (16 करोड़) 1 1 उत्तर प्रदेश
2 महाराष्ट्र 2 महाराष्ट्र
3 बिहार 3 बिहार
4 प. बंगाल 4 प. बंगाल
5 आंध्रप्रदेश 5 आंध्रप्रदेश

 

राजस्थान
2001 (करोड़) 2011 (करोड़)
1 जयपुर 9.3 1 जयपुर 9.71
अलवर 5.3 जोधपुर 5.37
जोधपुर 5.10 अलवर 5.35
नागौर 4.91 नागौर 4.82
उदयपुर 4.66 उदयपुर 4.47

 

न्यूनतम जनसंख्या

भारत
2001 (करोड़) 2001 (करोड़)
1 सिक्किम 1 सिक्किम
मिजोरम मिजोरम
अरूणाचल प्रदेश अरूणाचल प्रदेश
गोवा गोवा
नागा लैण्ड नागा लैण्ड

 

राजस्थान
2001 2011
1 जैसलमेर 0.90 1 जैसलमेर 0.98
सिरोही 1.51 सिरोही 1.27
बूंदी 1.70 बूंदी 1.51
धौलपुर 1.74 धौलपुर 1.62
राजसमंद 1.75 राजसमंद 1.69

 

ग्रामीण व शहरी जनसंख्या

भारत
2001 2011
ग्रामीण 72-18%

(1) हिमाचल प्रदेश

68.84%
शहरी 27.82% 31.2%

(1) तमिलनाडु48.5%

(2) केरल

(3) महाराष्ट्र

 

राजस्थान
2001 2011
ग्रामीण 76.61%

(1) बांसवाडा

(2) डूंगरपुर

 
शहरी 23.39%

(1) कोटा 

 

जनसंख्या घनत्व

  • जनगणना-2011 के अनुसार देश का जनघनत्व 382 व्यक्ति प्रति वर्ग किमी हो गया है जो 2001 की तुलना में 17.7 की वृद्धि है।
  • विश्व का जनघनत्व लगभग 45 व्यक्ति प्रति वर्ग किमी है।
  • 2001 से 2011 के दौरान जनघनत्व में सर्वाधिक वृद्धि बिहार (221) एवं सबसे कम वृद्धि अरूणाचल प्रदेश (3) के रूप में हुई है।
  • विश्व का सर्वाधिक जनघनत्व वाला जिला दिल्ली का उत्तर पूर्वी जिला है, जहां प्रति वर्ग किमी में रहने वाले लोगों की संख्या 36,155 है, वहीं दूसरा घना जिला चेन्नई (तमिलनाडु) 26,903 व्यक्ति प्रति वर्ग किमी है। इसी प्रकार न्यूनतम जनघनत्व वाले जिले में प्रथम स्थान पर अरूणाचल प्रदेश का दिबांग घाटी जिला है जिसका जनघनत्व 1 व्यक्ति प्रति वर्ग किमी है, वहीं दूसरे स्थान पर जम्मू-कश्मीर का सांबा जिला है जिसका जनघनत्व 2 व्यक्ति प्रति वर्ग किमी है।
  • 15वीं जनगणना के अनुसार सर्वाधिक जनसंख्या वाले जिले मे महाराष्ट्र का ठाणे जिला 1,10,54,131 व्यक्ति के साथ प्रथम स्थान पर है, वहीं प. बंगाल का उत्तरी चौबीस परगना जिला 1,00,82,852 व्यक्ति के साथ दूसरे स्थान पर है। देश के न्यूनतम जनसंख्या वाले जिले में अरूणाचल प्रदेश का दिबांग घाटी जिला 7,948 व्यक्ति के साथ प्रथम स्थान पर है, वहीं इसी प्रदेश का अंजाव जिला 21,089 व्यक्ति के साथ दूसरे स्थान पर है।

 

(विश्व 45)

 

भारत
  2001 2011
घनत्व 325 382
स्थान सर्वाधिक (1) प.बंगाल: 903

(2) बिहार: 881

(1) बिहार: 1102

(2) प.बंगाल: 1029

न्यून (1) अरूणाचल प्रदेश: 9.13 (1)अरूणाचलप्रदेश: 17

(2) मिजोरम: 52

(3) सिक्किम: 86

 

राजस्थान
  2001 2011
घनत्व 165 165
स्थान 8वां
सर्वाधिक (1) जयपुर: 471

(2) भरतपुर: 414

(3) दौसा: 384

(4) अलवर: 357

(5) धौलपुर: 324

(1) जयपुर: 598

(2) भरतपुर: 503

(3) दौसा: 476

(4) अलवर: 438

(5) बांसवाडा: 399

न्यून (1) जैसलमेर: 13

(2) बीकानेर: 61

(3) बाडमेर: 114

(4) चुरू: 126

(5) हनुमानगढ:120

(1) जैसलमेर: 17

(2) बीकानेर: 78

(3) बाडमेर: 92

(4) चुरू: 148

(5) जोधपुर: 161

 

नोटः- जनसंख्या घनत्व में 2001 की तुलना में अधिकतम व न्यूनतम परिवर्तन वाले जिले क्रमशः जयपुर (127) तथा जैसलमेर (4) है।

 

जनसंख्या वृद्धि दर

 

भारत
2001 2011
वृद्धि दर 21.54 17.70%
सर्वाधिक दशकीय वृद्धि दर 1961-71

24.80%

सर्वाधिक (1) नागालैण्ड

(2) सिक्किम

(3) मेघालय

(1) मेघालय: 27.82

(2) अरूणाचल: 25.92

(3) बिहार: 25.07

न्यूनतम (1) केरल

(2) तमिलनाडु

(3) आन्ध्रप्रदेश

(1) नागालैण्ड: 0.47%

(2) केरल: 4.86%

(3) गोवा: 8.17%

 

राजस्थान
2001 2011
वृद्धि दर 28.41 21.44%
सर्वाधिक दशकीय वृद्धि दर 1971-81 32.97%
सर्वाधिक (1) जैसलमेर: 47.52%

(2) बीकानेर: 38.24%

(3) बाडमेर: 36.90%

(4) जयपुर: 35.06%

(5) जोधपुर: 34.04%

(1) बाडमेर: 32.55%

(2) जैसलमेर: 32.22%

(3) जोधपुर: 27.69%

(4) जयपुर: 26.91%

(5) बांसवाडा: 26.58%

न्यूनतम (1) राजसमंद: 19.19%

(2) झुंझुनू: 20.93%

(3) चित्तौडगढ: 21.52%

(4) पाली: 22.46%

(5) झालावाड: 23.34%

(1) श्रीगंगानगर: 10.06%

(2) झुंझुनू: 11.81%

(3) पाली: 11.99%

(4) बूंदी: 15.70%

(5) चित्तौडगढ: 16.09%

 

  • जनगणना 2011, में राजस्थान की वृ़िद्ध दर में 6.97ः की कमी आई है।
  • दशकीय वृद्धि दर में सर्वाधिक कमी क्रमशः गंगानगर में 17.53% (27.59% से घटाकर 10.06%) तथा जैसलमेर में 15.03 (47.52 से घटकर 32.22%) हुई।
  • जनगणना 2011, की दृष्टि से दशकीय वृद्धि दर में राजस्थान का स्थान 11वां है।
  • देश में सर्वाधिक दशकीय वृद्धि दर दादर व नागर हवेली 55.50ः तथा न्यूनतम नागालैण्ड -0.47% 
  • 2001 में राजस्थान की दशकीय वृद्धि दर 4.98ः (5.5गुना) रही। जिसमें 

 

सर्वाधिक

(1) हनुमानगढ: 25.21%

(2) श्रीगंगानगर: 19.90% में तथा

 

न्यूनतम

(1) धौलपुर 2.29%

(2) भरतपुर 2.50% में रही।

 

कार्यशील जनसंख्या

 

  भारत राजस्थान
दर 39.10 42.11
सर्वाधिक (1) मिजोरम: 52.6%

(2) हिमाचल: 52.6%`

(1) चि.गढ: 51.70%
न्यूनतम (1) केरल: 32.30%

(2) उ. प्रदेश: 32.50%

(1) कोटा: 34.49%
पुरूष 51.7% 50.07%
महिला 25.6% 33.48%
ग्रामीण 45.94%
शहरी 29.56%

 

  • राजस्थान जीवन प्रत्याशा: 66.5

पुरूष: 64.7 वर्ष

महिला: 68.3 वर्ष

 

 

  • शिशु मृत्यु दर (IMR) 2012

 

भारत: 42/1000

राजस्थान: 49/1000

 

 

  • मृत्यु दर: 

 

        भारत: 7/1000

        राजस्थान: 6.6/1000

 

0 से 6 आयु वर्ग

 

भारत
  2001 2011
जनसंख्या 16.44 करोड़
प्रतिशत 15.93% 13.6%
पुरूष 13.8%
महिला 13.4%
सर्वाधिक (1) बिहार
न्यूनतम (1) गोवा
लिंगानुपात 927 919
सर्वाधिक लिंगानुपात (1) छ.गढ: 975
न्यूनतम लिंगानुपात (1) पंजाब: 798
ग्रामीण लिंगानुपात 923
शहरी लिंगानुपात 905

 

राजस्थान
  2001 2011
जनसंख्या 1.06 करोड़ 1.05 करोड़
प्रतिशत 18.85% 15.31%
पुरूष 18.97% 15.67%
महिला 18.72% 14.92%
सर्वाधिक (1) जयपुर (1) जयपुर
न्यूनतम (1) जैसलमेर (1) जैसलमेर
लिंगानुपात 909 883(-26)
सर्वाधिक लिंगानुपात (1) बांसवाडा: 964 (1) प्रतापगढ: 926

(2) बासवाडा: 925

(3) उदयपुर: 920

(4) डूंगरपुर व भीलवाडा: 916

न्यूनतम लिंगानुपात (1) श्री गंगानगर: 850 (1) झुंझंनू: 931

(2) सीकर: 841

(3) करौली: 844

(4) श्रीगंगानगर व    

   धौलपुर: 854

(5) दौसा व जयपुर : 859

ग्रामीण लिंगानुपात 964
शहरी लिंगानुपात 887

 

  • 0-6 आयु वर्ग की जसंख्या में 2001 की तुलना में 3.54ः (18.85 से घटकर 15.31ः) की कमी आई है।
  • 0-6 आयु वर्ग के लिंगानुपात में 2001 की तुलना में 2011 में

 

निम्न जिलों में सर्वाधिक कमी

जिला 2001 2011 कमी
दौसा 906 859 47
टोंक 927 882 45
राजसमंद 936 891 45
सीकर 885 841 44
जयपुर 899 859 40

 

अनुसूचित जाति

भारत राजस्थान
  2001 2011 2001 2011
जनसंख्या 16.66 करोड़ 20.13 96.94 लाख
अनुपात 16.20% 16.6% 17.16%
देश का अनु.जाति का: 5.82%
सर्वाधिक उत्तर प्रदेश जयपुर
प्रतिशत पंजाब 28.9% श्रीगंगानगर
न्यूनतम जन नागालैण्ड (शून्य) डूंगरपुर
प्रतिशत

 

अनुसूचित जनजाति

भारत राजस्थान
  2001 2011 2001 2011
जनसंख्या 8.43 करोड़ 10.42 70.98 लाख
अनुपात 8.2% 8.6% 12.5%
देश का अनु.जाति का:
सर्वाधिक मध्य प्रदेश 8.42%
प्रतिशत मिजोरम 94.5 उदयपुर 

(12.60 लाख)

न्यूनतम जन गोवा-पंजाब हरियाणा बीकानेर
प्रतिशत नागौर (0.23%)

 

लिंगानुपात

  • लिंगानुपात का निर्धारण प्रति 1000 पुरूषों पर महिलाओं की संख्या के द्वारा व्यक्त किया जाता है।
  • 15वीं जनगणना के अनुसार वर्तमान मे लिंगानुपात की दर 943 है, वही अवयस्क लिंगानुपात की दर 927 (2001) से घटकर 914 (2011) हो गया है।
  • 2011 ई. की जनगणना के अनुसार देश के सर्वाधिक लिंगानुपात वाला जिला में पुदुचेरी के माहे जिला (1176) जहां प्रथम स्थान पर है वहीं उत्तराखड का अल्मोड़ा जिला (1142) दूसरे स्थान पर है।
  • 15वी जनगणना के अनुसार अवयस्क लिंगानुपात के मामले में हरियाणा के महेंद्रगढ़ एवं जम्मू-कश्मीर के सांबा का लिंगानुपात सबसे कम क्रमशः 775 व 789 है जबकि हिमाचल प्रदेश के लाहौल-स्फीति जिला (1013) प्रथम स्थान पर है व अरूणाचल प्रदेश के तवांग जिला (1005) का दूसरा स्थान है।

लिंगानुपात में वृद्धि:

(1) जैसलमेर: 28 (821 के स्थान पर 849) तथा (2) भरतपुर: 23 (854 के स्थान पर 877)

लिंगानुपात में गिरावट

(1) डूंगरपुर: -28 (1022 के स्थान पर 990)

(2) जालौर: -13 (964 के स्थान पर 951)

(3) राजसमंद: -12 (1000 के स्थान पर 988)

(4) चुरू: -10 (948 के स्थान पर 936)

(5) सीकर: -7 (951 के स्थान पर 944)

(6) सिरोही: -5 (943 के स्थान पर 938)

नोटः- जनगणना 2001, में सिरोही ही एकमात्र जिला था जिसका अनुपात गिरा 949 से 943 था।

 

साक्षरता 

  • 7 वर्ष उससे अधिक आयु के व्यक्ति जो पढ़ लिख सकते हो साक्षर समझे जाते है।
  • 15वीं जनगणना 2011 ई. के अनुसार देश की साक्षरता दर पिछले दशक के 64.84% से बढ़कर 73ः हो गयी जो कुल साक्षरता में 8.6% की वृद्धि को दर्शाती है।
  • 2011 ई. के जनसंख्या आंकड़ों के अनुसार देश के 11 ऐसे राज्य हैं जिनकी साक्षरता दर राष्ट्रीय औसत से कम है, वे हैं- बिहार, अरूणाचल प्रदेश, राजस्थान, झारखंड, आंध्र प्रदेश, जम्मू-कश्मीर, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश व छत्तीसगढ़।
  • देश के सर्वाधिक साक्षर जिलों में पहला व दूसरा स्थान क्रमशः मिजोरम के सेरछिप (98.95ः) एवं आइजोल (98.50ः) जिला को प्राप्त है।
  • 15वीं जनगणना के आंकड़ों के अनुसार पुरूष साक्षरता दर की अपेक्षा महिला साक्षरता दर में अधिक वृद्धि दर्ज की गई है।
  • 2001 ई. में महिला साक्षरता दर जहां 53.67% थी, वहीं 2011 ई. में बढ़कर 64.6% हो गई जो 10.93% की वृद्धि को दर्शाती है, वही इसी अवधि में पुरूष साक्षरता दर 74.04% से बढ़कर 82.14% हो गई जो महिलाओ के मुकाबले मामूली वृद्धि 6.9ः को दर्शाती है।

राज्य की सम्भाग वार जनसंख्या स्थिति 

  • सर्वाधिक जनसंख्या वाला सम्भाग: जयपुर 

न्यूनतम: कोटा

  • सर्वाधिक दशकीय वृद्धि दर वाला सम्भाग: जोधपुर 

न्यूनतम: उदयपुर

  • सर्वाधिक घनत्व वाला सम्भाग: जयपुर (376) 

न्यूनतम: जोधपुर (80)

  • सर्वाधिक लिंगानुपात वाला सम्भाग: उदयपुर (981)

न्यूनतम: भरतपुर (856)

  • सर्वाधिक साक्षरता वाला सम्भाग: जयपुर (65.04)

न्यूनतम: उदयपुर (53.3)

  • सर्वाधिक क्षंेत्रफल वाला सम्भाग: जोधपुर
  • न्यूनतम: भरतपुर
  • सर्वाधिक अनुसूचित जाति वाला सम्भाग: जयपुर

न्यूनतम: उदयपुर

  • सर्वाधिक अनुसूचित जनजाति वाला सम्भाग: उदयपुर

न्यूनतम: बीकानेर

  • 15वीं जनगणना आंकड़ों के अनुसार विगत दशक की अपेक्षा 2011 ई. में कुल प्रजनन दर में 19% की गिरावट दर्ज की गई है जिसमें सर्वाधिक गिरावट पंजाब (28%) तथा न्यूनतम गिरावट केरल 5.6% दर्ज की गई है।
  • राष्ट्रीय जनसंख्या आयोग का गठन 11 मई, 2011 को किया गया।
  • राष्ट्रीय जनसंख्या आयोग के अध्यक्ष प्रधानमंत्री होते हैं।
  • राष्ट्रीय जनसंख्या नीति, 2000 के अनुसार लोकसभा में राज्य के लिए निर्धारित सीटों की संख्या सन् 2026 तक यथावत रखने की घोषणा की गई है।
  • राष्ट्रीय जनसंख्या नीति, 2000 के अनुसार सन् 2045 तक जनसंख्या को स्थिर करने के लक्ष्य को बढ़ाकर 2010 ई. के संशोधन के द्वारा लक्ष्य प्राप्ति का वर्ष 2070 कर दिया गया है।
  • राष्ट्रीय जनसंख्या परिषद् की स्थापना वर्ष 1969 ई. में की गई।
  • जनगणना-2011 के आंकड़ो के अनुसार देश की कुल जनसंख्या का 37.7 करोड़ (31.16ः)
  • शहरी क्षेत्रों में तथा 83.3 करोड़ (68.84ः) जनसंख्या ग्रामीण क्षेत्रों में निवास करती है।
  • भारत की कुल जनसंख्या का 31.16ः भाग नगरों में निवास करता है।
  • सर्वाधिक नगरीय जनसंख्या प्रतिशत वाले राज्य घटते क्रम क्रमशः- 1. गोवा (62.17ः) 2. मिजोरम (51.51ः) 3. तमिलनाडु (48.45ः) 4. केरल (47.72ः)
  • सर्वाधिक नगरीय जनसंख्या वाले राज्य घटते क्रम में क्रमशः 1. महाराष्ट्र (50.83ः) 2. उत्तर प्रदेश (44.47ः) 3. तमिलनाडु (34.95ः) 4. प. बंगाल (29.13ः)
  • न्यूनतम नगरीय जनसंख्या वाले राज्य क्रमशः 1. सिक्किम 2. अरूणाचल प्रदेश 3. मिजोरम हैं।
  • सर्वाधिक नगरीय शिशु जनसंख्या वाला राज्य उत्तर प्रदेश है।
  • देश की 60ः ईसाई जनसंख्या केरल, तमिलनाडु तथा आंध्र प्रदेश में है।
  • बौद्धों की सर्वाधिक सख्या महाराष्ट्र तथा अरूणाचल प्रदश में पाई जाती है।
  • जैन धर्मावलंबी राजस्थान गुजरात तथा महाराष्ट्र में है।
  • जनगणना-2011 के अनुसार देश की कुल जनसंख्या का 16.6ः अनुसूचित जाति तथा 8.6% अनुसूचित जनजाति है।
  • अनुसूचित जातियो की सर्वाधिक संख्या उत्तर प्रदेश, प. बंगाल तथा बिहार में है।
  • सर्वाधिक अनुसूचित जातियों का जनसंख्या प्रतिशत पंजाब में है।
  • जनसंख्या-2011 की दृष्टि से अनुसूचित जनजाति की संख्या मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, ओडिशा तथा झारखंड में सर्वाधिक है।

 

India (Minerals)

(1) लोहा (Iron) :-

भण्डार: सामान्य

  1. झारखण्ड (25%)
  2. उड़ीसा (21%)
  3. कर्नाटका (20%)
  4. म. प्रदेश +  छ.गढ़ (18%)
  5. गोवा (11%)

 

Hometite

  1. उड़ीसा (33%)
  2. झारखण्ड (26%)
  3. छ. गढ़ (18%)

 

उत्पादन:-

  1. उडीसा (36.2%)
  • मयूरगंज (गुरूमहासहानी, सुलेमत, बादाम पहाड़)
  • क्यांेझर (बनासमानी, ठकुरानी, टोडा, कोडेकोला, खुरबंद, किरीबुरू)
  • दैतारी पहाडी, हीरापुरा पहाडी, नलियाबासा पहाडी

 

  1. कर्नाटका (22%)
  • केमानगुण्डी (बाबाबुदान)
  • होस्पेट, धारवाड, शीमोगा, तुमकुर, संदुर

 

  1. छत्तीस गढ़ (20%)
  • बेलाडिला (बस्तर)
  • डल्ली शजहारा (दुर्ग)

 

  1. गोवा (18%)
  • पीरना-अडोलपोल-असनोरा

 

  1. झारखण्ड (14%)
  • सिंहभूम (नोआमुण्डी, राजोरी बुरू, बुदुबुरू, डाल्टनगंज)

 

(2) मेंगनीज:- भारत दूसरा सबसे बड़ा भण्डार,  

              भारत पांचवा सबसे बड़ा उत्पादक।

   उत्पादन:-

  1. उड़ीसा (37%): सुन्दरगढ़, कालाहाण्डी
  2. महाराष्ट्र (24%): नागपुर-भण्डारा
  3. म. प्रदेश (20%): बालाघाट-छींदवाडा
  4. कर्नाटका (13%): उत्तर कनारा, शीमोगा 5. आंध्र प्रदेश (14): श्रीकाकुलम, विशाखापट्टनम
  5. आंध्रप्रदेश(14ः)ःश्रीकाकुलम, विशाखापट्टनम

 

(3) कॉपर:

   उत्पादन:-

  1. म. प्रदेश (56ः): तारेगांव
  2. राजस्थान (40ः): खेतड़ी, खोदरीबा
  3. झारखण्ड (2.6ः): सिंहभूम

 

(4) निकल: 

   उड़ीसा: क्योझर, मयुरगंज

 

(5) लीड़: राजस्थान (94ः)-जावर   

   (उदयपुर)

 

(6) जिंक: राजस्थान (99ः)-जावर (उदयपुर)

 

(7) टंगस्टन: 

    उत्पादन:

  1. राजस्थान: डेगाना, वाल्दा
  2. पश्चिम बंगाल: चेंदपठार

 

(8) बोक्साईट:

उत्पादन:

  1. उड़ीसा (50%)
  2. गुजरात (15%)
  3. झारखण्ड (12%)

 

(9) मीका: भारत विश्व का 60% उत्पादित करता है।

    उत्पादन:

  1. (72%)
  2. राजस्थान (15%)
  3. झारखण्ड (11%)

 

(10) लाईम स्टोन:

    उत्पादन:

  1. म. प्रदेश (16.3%)
  2. राजस्थान (16.2%)
  3. आंध्र प्रदेश (15.9%)
  4. गुजरात (10%)
  5. छत्तीस गढ़ (9.5%)

 

(11) डोलोमाईट:

उत्पादन:

  1. उड़ीसा (24ः)
  2. छत्तीस गढ़ (28ः)
  3. झारखण्ड (18ः)

 

(12) एसबेस्टॉस:

 उत्पादन:

  1. राजस्थान
  2. आंध्र प्रदेश

 

विश्व में भारत का स्थान 

  • द्वितीय स्थान:
  • तृतीय स्थान: कोयला
  • चतुर्थ स्थान:
  • पंचम स्थान: मेंगेनीज, जिंक
  • छठा स्थान: बोक्साईट
  • सांतवां स्थान: एल्युमिनियम
  • आंठवां स्थान: कॉपर

 

कोयला (Coal)

भारत की 67% व्यापारिक आवश्यकता की पूर्ति करता है।

    • गोण्डवाना कॉल (98%) (कारबोनिफेरस युग का): 

 

  • भण्डार:

 

  1. झारखण्ड (28%): झरीया, बोकारो
  2. उड़ीसा (24%)
  3. छत्तीस गढ़ (16%)
  4. प. बंगाल (10%)
  5. म. प्रदेश (7.85%)

 

  • Tertiory Coal (2%) (oligocne) युग क
  • इसे Brown Coal भी कहते है।
  • Neyveli में सर्वाधिक जमाव (तमिलनाडु) 
  • राजस्थान में बीकानेर, बाडमेर में

 

  • झरगुडा (छत्तीस गढ़) में 132 मीटर तक जमाव पाए गऐ है।
  • झारखण्ड: अरीपा, बोकारो, हुहार, करणपुर, रामगढ़, डाल्टनगंज, पलामु, दुमका, हजारीबाग
  • उड़ीसा: तलचर
  • छत्तीस गढ़: उत्पादन में द्वितीय स्थान है। (कोरबा, झीलमीरी, तातापानी, बिसरामपुर)
  • मध्य प्रदेश: सिंगरौली
  • पश्चिम बंगाल: रानीगंज

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

×

Hello!

Click one of our representatives below to chat on WhatsApp or send us an email to info@vidhyarthidarpan.com

×